≡ Menu






दुखद: 11 साल की मासूम को हो रहा था पेट दर्द, जब डॉक्टर के पास ले जाया गया तो खुलासा हुआ कि…

आज सोशल मीडिया के माध्यम से हमे रोज़ाना ऐसी बहुत सी अजीबो-गरीब खबरें सुनने को मिलती रहती हैं जिसे सुनकर किसी को भी यकीन नहीं हो पाता है. यूँ तो हर औरत के लिए माँ बनना दुनिया में सबसे खुबसूरत एहसास होता है लेकिन क्या हो जब यही एहसास किसी के लिए एक बड़ा अभिशाप बन जाए..? जी हाँ जरा सोचिये कि एक मासूम सी बच्ची उस समय माँ बन जाए जब उसे इस शब्द का अर्थ भी नहीं पता हो. यक़ीनन आप हैरान हो गये होंगे. दोस्तों आज हम आपको ऐसे ही एक भयानक वाकया के बारे में बताने जा रहे हैं. जहाँ महज 11 साल की उम्र में ही एक बच्ची प्रेग्नेंट हो गयी.

जानिए आखिर कैसे एक मासूम बन गई माँ

अब जरुर आपके मन में ये सवाल आया होगा कि आखिर एक बच्ची माँ कैसे बन सकती है तो चलिए आपको इस बारे में विस्तार से बताते है. दरअसल, एक दिन ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड में रहने वाली चेरिश रोज लावेले नाम की एक बच्ची के घरवालों की जिन्दगी उस वक्त बदल गई जब इस बच्ची ने अचानक पेट दर्द की शिकायत की जिसके बाद परिजन इसे डॉक्टर के पास लेकर गये. जहाँ उन्हें डॉक्टर ने बताया कि असल में वो दर्द आम दर्द नहीं बल्कि गर्भावस्था का दर्द है.

बच्ची की जांच के दौरान डॉक्टर भी रह गये हैरान

मीडिया खबरों की माने तो मासूम चेरिश का वजन पहले बहुत कम था लेकिन अचानक पेट में दर्द शुरू होने के बाद से ही उसके वजन में आश्चर्यजनक बढ़ोतरी होने लगी. जिसे देखकर घर वाले डर गए और उसे अस्पताल लेकर गये. जहाँ डॉक्टरों को लगा कि वो प्रेग्नेंट है, लेकिन जब डॉक्टर ने पूरी तरह से मासूम का चेक अप किया तो असली बात जो सामने आई उसपर खुद डॉक्टरों को भी विश्वास नहीं हुआ.

जिसे डॉक्टर समझ रहे थे गर्भाशय वो असल में निकली ये सच्चाई

चेरिश की माँ लुइस जब अपनी बेटी के पेट दर्द की शिकायत के बाद उसे लेकर हर्वे बे अस्पताल गयीं तो आपको जानकर ताज्जुब होगा कि वहां डॉक्टरों की एक टीम ने उसका चेकअप किया जहाँ उसकी ओवरी में जर्म सेल कैंसर होने की भयानक बात सामने आयी. बता दें कि ये कैंसर आमतौर पर इस उम्र की लड़कियों में कम ही देखने को मिलता है. ऐसे में डॉक्टरों ने मासूम चेरिश का करीब छह महीने तक ट्रीटमेंट किया जहाँ उसका पूरा शेड्यूल बदल गया.

इलाज के दौरान मासूम ने अपने सारे बाल खो दिए

डॉक्टरों की मदद से मासूम चेरिश की कीमोथैरिपी का सिलसिला शुरू हुआ और फिर जब दो हफ्तों के बाद मासूम के पेट के ट्यूमर का साइज कम हो गया, तो डॉक्टरों ने उसे काटकर मासूम के शरीर से अलग किया. हालांकि अभी भी बच्ची को करीब छह महीने तक कीमोथैरिपी दी जाएगी, लेकिन इस पूरे इलाज के दौरान मासूम चेरिश को अपने सभी बाल खोने पड़े. गौरतलब है कि मासूम के दोस्त और परिजन उसके साथ है और उसकी देखभाल में कोई कसर नहीं छोड़ रहे है और उमीद की जा रही है कि मासूम जल्द ही ठीक हो जाएगी.

नोट: दोस्तों आपको इस मासूम के लिए क्या कहना है? हमे नीचे कमेंट कर अपनी राय दें और पसंद आए तो इसे शेयर भी करे.

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment