≡ Menu



..तो क्या अरुण जेटली अपनी ‘वकील बेटी’ को बचाने के लिए PNB घोटाले पर चुप हैं?

हाल ही में पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के सामने आने पर दुनियाभर में मोदी सरकार की खूब धज्जियाँ उड़ रही है. जिसपर प्रधानमंत्री मोदी अब तक खामोश है.

Like कीजिये हमारा फेसबुक पेज

केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली से नीरव मोदी के संबंधो का हुआ खुलासा 

ऐसे में अब PNB घोटाले के मुख्य आरोपी नीरव मोदी के रिश्तों के तार जब केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली से जुड़ते नज़र आये तो एक बार फिर मोदी सरकार पर आरोपों का दौर शरू हो गया.

जेटली की बेटी की कंपनी मुहुल चौकसी के लिए करती थी काम

जानी मानी वेबसाइट ‘द वायर’ की माने तो अरुण जेटली की बेटी की कानून फर्म “जेटली एंड बक्शी” PNB घोटाले के दूसरे मुख्य आरोपी मुहुल चौकसी के लिए एक लम्बे अरसे तक काम कर रही थी. जिसके चलते ही अब विपक्ष केंद्र की बीजेपी सरकार पर ये आरोप लगा रहा है कि इसी वजह से मोदी सरकार अबतक PNB घोटाले पर कोई जरुरी कदम नहीं उठा रही है.

नीरव मोदी और मुहल चौकसी पर लगे हैं PNB खोटाले के आरोप

बताते चले कि, पिछले महीने पीएनबी बैंक में 12,600 करोड़ रुपये का घोटाला सामने आने से देश में हलचल मच गई थी. एक टीवी चैनल ने इस घोटाले से जुड़े कई जरुरी दस्तावेज़ों के आधार पर इसे 29000 करोड़ रुपये का घोटाला बताया है. देश के सबसे बड़े PNB घोटाले के आरोप हीरा कारोबारी नीरव मोदी और उनके मामा मुहल चौकसी पर लगे हैं. दोनों का ही पूरा परिवार घोटाला सामने आने से पहले ही देश छोड़कर भागने में कामयाब रहा है.

प्रधानमंत्री मोदी और नीरव मोदी दावोस में देखें गये थे साथ

इसके साथ ही देखा जाए तो नीरव मोदी देश के सबसे बड़े उद्योगपति मुकेश अंबानी के रिश्तेदार भी हैं. और मुकेश अंबानी को मोदी सरकार का सबसे करीबी माना जाता है. इसके अलावा प्रधानमंत्री मोदी और नीरव मोदी को हाल ही में स्विटज़रलैंड के दावोस शहर में हुए वर्ल्ड इकनोमिक फोरम की बैठक में साथ देखे जाने के बाद भी विपक्ष उनपर हमला करता रहा है.

जेटली की बेटी की कंपनी को मिली थी मोटी रकम

ऐसे में अब ‘द वायर’ ने इस बात का खुलासा किया है कि मेहुल चौकसी की कंपनी गीतांजली जेम्स ने अपने लिए केस लड़ने के लिए कानून फर्म ‘जेटली एंड बक्शी’ के साथ दिसम्बर 2017 में एक बड़ा समझौता किया था. और इसी समझौते के अंतर्गत जेटली की बेटी की कम्पनी ‘जेटली एंड बक्शी’ को मेहुल चौकसी की कंपनी की ओर से मोटी रकम भी दी गई थी.source

कानून फर्मों पर CBI मार  रही है छापे

हालांकि खबर है कि मेहुल चौकसी का नाम पीएनबी घोटाले में आने के बाद ‘जेटली एंड बक्शी’ ने ये समझौता अब रद्द कर दिया है. PNB घोटाले के सामने आने के बाद से ही कई सरकारी ऐजंसियां उन सभी कानून फर्मों पर कार्यवाही करते हुए छापे मार रही हैं जो नीरव मोदी या मुहुल चौकसी के लिए काम किया करती थी.

जेटली की बेटी की फर्म पर नही हुई कोई कार्यवाही 

ऐसे में अब ये बड़ा सवाल उठ रहा है कि जिस तरह मुंबई में सायरिल अमरचंद मंगलदास कानून फर्म पर सीबीआई ने छापा मारा क्योंकि इस फर्म ने नीरव मोदी की कंपनी के साथ किसी केस के लिए घोटाला सामने आने से केवल एक हफ्ते पहले ही समझौता किया था तो ऐसे में जेटली की बेटी की कानून फर्म ‘जेटली एंड बक्शी’ पर अभी तक कोई छापेमारी क्यों नहीं की गई है.

राहुल गांधी ने ट्वीट कर किया खुलासा

इसी खुलासे को लेकर मोदी सरकार पर जमकर हमला करते हुए हाल ही में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने ट्वीट करते हुए कहा कि..

“अब ये बात सामने आ चुकी है कि वित्त मंत्री अरुण जेटली ने अपनी वकील बेटी को बचाने के लिए इस मामले पर चुप्पी साध रखी है। घोटाला आरोपी ने उनकी बेटी को घोटाला सामने आने से पहले भुगतान दिया था”

अपने ट्वीट में राहुल गाँधी ने मोदी सरकार और CBI पर सवाल करते हुए ये भी पुछा कि,

“जब आरोपी से जुड़ी सभी कानून फार्मों पर छापेमारी हो रही है तो वित्त मंत्री की बेटी की फर्म पर क्यों नहीं?..”

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment