≡ Menu



अभी-अभी : भगवान हनुमान को दलित बताने पर ब्राह्मण सभा ने भेजा सीएम योगी को क़ानूनी नोटिस !

इस दुनिया में एक समय ऐसा था जब कोई भी भगवानों पर उंगली उठाने से पहले 100 बार सोचता था लेकिन आज परिस्थितियाँ पूरी तरह बदल चुकी हैं. आज लोग अपने फायदे के लिए कुछ भी करने को तैयार हैं ऐसा ही कुछ बीजेपी भी कर रही है. यूपी में सरकार जहाँ एक तरफ राम मंदिर को लेकर राजनीति कर रही है वहीं दूसरी तरफ योगी के बयान ने हडकंप मचा रखा है.

Like कीजिये हमारा फेसबुक पेज

यह है पूरा मामलाsource

दरअसल, यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ हिन्दू धर्म का परचम लहराते फिरते हैं. राम लला को लेकर दंगा करवाने वाले योगी ने राम के सेवक और सबसे बड़े भक्त हनुमान जी को दलित बता दिया है. जी हाँ, आपने सही सुना योगी के इस बयान ने पूरे देश में हडकंप मचा कर रख दिया है. अब योगी आदित्यनाथ ने राम को छोड़कर हनुमान पर राजनीति करना शुरू कर दिया है.

इस दौरांन दिया योगी ने ये बयानsource

जानकारी के लिए आपको बता दें, कि सीएम योगी ने ये बयान राजस्थान में प्रचार के दौरान दिया था. योगी के इस बयान से आहत होकर ब्राह्मण सभा ने उनको क़ानूनी नोटिस भेजा है जिसमें उन्होंने हनुमान को जाति में बांटने का आरोप लगाया है. जबकि केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने मीडिया को घुमाने की कोशिश करते हुए कहा कि योगी ने ये बयान कांग्रेस को जबाव देते हुए दिया होगा.

कांग्रेस को फोलो कर रही है बीजेपीsource

सीएम योगी हनुमान जी को दलित कहने तक ही नहीं रुके उन्होंने आगे कहा कि बजरंगबली ऐसे लोक देवता हैं जो स्वयं वनवासी हैं, गिर वासी हैं, दलित और वंचित हैं. योगी के बयान पर पलटवार करते हुए कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने कहा कि ये लोग वोट के लिए जाति भी नहीं छोड़ते हैं. बीजेपी कांग्रेस की रणनीति पर काम करते नजर आ रही है क्योंकि कुछ ही समय पहले कांग्रेस ने खुलासा किया था कि वह दलित वर्ग के लोगों का भरोसा जीतने के लिए केम्पेन चलाने वाली है.

News source 

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment