≡ Menu






इन्साफ: मुस्लिमों को फर्जी केस में फंसाने पर कोर्ट ने 12 पुलिसकर्मियों को दी ये ख़ौफनाक सज़ा !

देश में जुर्म दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है जिसको कम करने के लिए न तो पुलिस कोई एक्शन लेती है और न ही सरकार कोई नियम बनाती है. सत्ता में मौजूद सरकार को सिर्फ अपनी पॉवर से प्यार होता है और चुनावों के दौरान वह घर से बाहर निकल कर आते हैं. इन सब के अलावा सरकार जनता को झूठे वादों के फेर में फंसाती रहती है और वोट अपनी झोली में डालती रहती है.

झूठे केस में मुस्लिम को फंसायाsource

देश में अगर सबसे ज्यादा लड़ाई, दंगे और हिंसक घटनाएँ किसी धर्म के लोगों के बीच देखने को मिलती हैं तो वह है हिन्दू और मुस्लिम. यह तब से हुआ है जब से पाकिस्तान भारत से अलग हुआ है और भारत पर हमला करने वाले आतंकियों में सबसे ज्यादा मुस्लिम धर्म के लोग देखने को मिले. लेकिन हालही में एक खबर तेजी से वायरल हो रही है जहाँ पुलिस ने एक मुस्लिम युवक को फर्जी केस में फंसाने की कोशिश की है.

यह है पूरा मामला

पुलिस का खेल, पांच दरोगा और 12 सिपाहियों पर दर्ज हुआ डकैती का केस

पुलिस का खेल, पांच दरोगा और 12 सिपाहियों पर दर्ज हुआ डकैती का केस

Posted by Punjab Kesari UP on Saturday, October 6, 2018

दरअसल, यूपी के बुलंदशहर के खुर्जा के एक मुस्लिम युवक के खिलाफ पुलिस ने झूठी कहानी बनाकर 84 हजार और दो बाइक जब्त कर ली युवक भतीजे मुस्तकीम को गिरफ्तार कर लिया. लेकिन मुस्लिम युवक साबिर का आरोप है कि पुलिस ने उसके भतीजे को मुस्तकीम को सिकंद्राबाद के पास पीले बम्बे से एक पिस्टल, 10 हजार और न!शीले पाउडर के साथ गिरफ्तार दिखाया.

कोर्ट ने लिया ये बड़ा कदमsource

आपको जानकर हैरानी होगी कि अपनी वर्दी का गलत इस्तेमाल करने वाले इन पुलिस कर्मियों के खिलाफ जब युवक ने अपील की तो कोर्ट ने 12 पुलिसकर्मियों पर केस दर्ज करने का आदेश दिए थे, जिसके बाद आईपीसी की धारा 395 के तहत खुर्जा कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कर ली गई, अब आप खुद ही देख लें कि सरकार भले ही जनता को धर्म के आधार पर भड़का कर वोट मांग सकती है लेकिन न्यायालय सभी धर्मों के लिए एक समान निर्णय लेता है.

News source 

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment