≡ Menu






26 मार्च को भारतीय सेना में शामिल होने जा रहा है एक ऐसा हथियार, खुबिया सुनकर कांप उठेंगे चीन-पाक

हर देश के लिए अपनी सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण होती है. कहने को तो सभी देश एक साथ हैं लेकिन कब किसकी नियत खराब हो जाए किसी को नहीं पता है. भारत भी अपनी सुरक्षा को लेकर बेहतर इंतजाम कर रहा है. 1962 में हुए चीन के साथ युद्ध के बाद चीन हमेशा भारत को धमकी देता रहता है. भारत पर आतंकी हमले करवाने वाले पाकिस्तान को अगर कोई सबसे ज्यादा सपोर्ट करता है तो वह चीन ही है.

शक्तिशाली देश बनने जा रहा है भारत

source

भारत अब वो देश नहीं रहा जहाँ हर कोई आकर देश पर राज कर सके. 1947 में ब्रिटिशों के चंगुल से आजादी के बाद भारत दिन प्रतिदिन मजबूत होता जा रहा है. आज भारत के साथ अमेरिका जैसी महान शक्ति का साथ है जिसके आगे किसी की भी नहीं चलती है. रूस से भी भारत के अच्छे संबंध हैं पुलवामा हमले के बाद अब चीन भी भारत के साथ आ गया है, लेकिन आज हम आपको एक ऐसे हथियार के बारे में बताने जा रहे हैं पाकिस्तान के पसीने छुटा सकता है.

ये है वो शक्तिशाली हथियार

source

हम जिस हथियार की बात कर रहे हैं वो कोई और नहीं बल्कि धनुष तोप है. इस तोप का टारगेट रेंज 38 किलोमीटर, वजन 13 टन है. इतना ही नहीं यह तोप नई पीढ़ी के गोला बारूद चलाने में भी सक्षम है. जानकारी के लिए आपको बता दें, कि धनुष तोप को 26 मार्च से भारतीय सेना में शामिल कर लिया जायेगा. इस शक्तिशाली हथियार के सेना में शामिल होते ही पाकिस्तान फूंक-फूंक कर कदम रखेगी.

मारक क्षमता बोफोर्स से भी ज्यादा

सूत्रों की माने तो धनुष तोप के सारे परीक्षण सफल हो चुके हैं और जल्द ही इसे सेना में शामिल कर लिया जायेगा. आपको जानकर हैरानी होगी कि धनुष की मारक क्षमता बोफोर्स से भी ज्यादा है. अलगे हफ्ते ऑर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड, जबलपुर की गन फैक्ट्री 6 धनुष तोप सेना को सौंपने वाली है. इतना ही नहीं यह फैक्ट्री भारत के लिए 114 तोपे बनाने वाली है. एक बार सीमा पर ये तोप तैनात हो जाएँ उसके बाद चीन भी भारत को धमकी देने से पहले दो बार सोचेगा.

news source

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment