≡ Menu



बड़ी खबर : जेल से निकलकर योगी को डॉक्टर काफ़िल ने लिया आड़े हाथ, कहा मेरे परिवार से पहले तुम…

पुराने जमाने में हमारे पास ज्यादा अस्पताल नहीं हुआ करते थे अगर कोई बड़ी बीमारी से कोई ग्रस्त हो जाये तो उसे दूर शहर के अस्पताल में इलाज करवाना पड़ता था. उस समय पर हमारे आस पास वैद्य हुआ करते थे जो जड़ी बूटी से बीमारियों को दूर करते थे. लेकिन अब समय बदल गया है जगह जगह पर अस्पताल खुल चुके हैं जहाँ जाकर हम छोटी से छोटी बीमारी का भी इलाज करा सकते हैं.

Like कीजिये हमारा फेसबुक पेज

यूपी का हैरान करने वाला मामलाsource

हालहि में यूपी का एक हैरान करने वाला मामला देखने को मिला है जिसने पूरे देश के रोंगटे खड़े करके रख दिए हैं. यूपी में हजारों बच्चों की मौत बीमारियों का शिकार होने की वजह से हो रही है. लेकिन सबसे हैरान करने वाली बात यह है कि यूपी के बीआरडी अस्पताल में पिछले 6 महीनों में  1,049 बच्चों की मौत हो गई है और कोई इन मासूमों कि जान नहीं बचा पाया.

डॉक्टर को भेजा जेलsource

जानकारी के लिए आपको बता दें, कि यूपी में योगी की सरकार ने बीआरडी अस्पताल के एक डॉक्टर काफ़िल अहमद को बच्चों की मौत का जिम्मेदार बताकर जेल की सलाखों के पीछे भेज दिया. अगर डॉक्टर के घर वालों की माने तो योगी ने उनके धर्म पर ऊँगली उठाते हुए ऐसा शर्मनाक कदम उठाया था लेकिन डॉक्टर काफ़िल को कोर्ट ने रिहा कर दिया है.

डॉक्टर काफ़िल का योगी को लेकर बड़ा बयानsource

जेल से बाहर आने के बाद डॉक्टर काफ़िल अहमद ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्विट करते हुए नसीहत दी कि बीआरडी अस्पताल में पिछले छह महीनों में 1049 बच्चों की मौत हो चुकी है. अगर सरकार मेरे परिवार के पीछे पड़ने के बजाए अस्पताल की सुविधाएं बढ़ाने पर ध्यान देती तो मरने वाले बच्चों की संख्या कम हो सकती थी.

फरिश्ते से कम नहीं है काफ़िल source

इंसेफलाइटिस से ग्रस्त 73 बच्चे भी शामिल हैं, इस दौरान सबसे ज्यादा मौतें एनआईसीयू (नियोनेटल इंटेसिव केयर यूनिट) में हुई है. इनमें 681 बच्चों की संख्या है. काफ़िल अहमद ने बच्चों की जान बचाने की कोशिश की जिसके बाद लोग उनको किसी फरिश्ते स कम नहीं मान रहे हैं.

news source

{ 1 comment… add one }

Leave a Comment