जीवन में हास्य या हास्य में जीवन

हास्य का क्या महत्व है, Hasya par lekh, essay on laugh in hindi

इस लेख के द्वारा आप जान पाएंगे की जीवन में हास्य या हास्य में जीवन कितना अनिवार्य है। इस लेख में आप कुछ कविओ की कविताएं और हास्य किस्से भी पढ़ेंगे। अगर आपको हमारा ये लेख अच्छा लगा तो इसे शेयर जरूर करे।

हास्य का महत्त्व

जीवन में हास्य को उतारना या हास्य में जीवन को जीना बड़ी साधारण बात ह । में एक कवि हूँ और जीवन में नित्यप्रति घटनाओं में हास्य खोजना सहज है । आईये, मैं आपको कुछ कवियों की कविताओं का पोस्ट मार्टम करना भी बातों ही बातों में सिखा दूँ।

मीराबाई का नाम आप सबने सुना होगा और मीरा जी के भजन भी आप सुने ही नहीं होंगे उन्हें गुनगुनाते और गाते भी होंगे आप–

“मेरे तो गिरधर गोपाल, दूसरा न कोई ‘ इस भजन को यदि हम हास्य में उतारें तो हमें केवल दो चार शब्दों की हेराफेरी करनी पड़ेगी-। जैसे–

मेरे तो गिरधर गोपाल, दूसरा न कोई।
जाके हाथ पासपोर्ट, मेरे पति सोइ।।

मीरा जी के बाद अब आप महाकवि सूरदास की रचना का भी लगे हाथों पोस्टमार्टम देखें तो आप हास्य रस के एक अच्छे कवि स्वयं हो जायेंगे।

‘मय्या मैं गाय चरावन जैहों।’ यह सूरदास जी का पद है और
मय्या मैं तो कार चलावन जैहों
गर्ल फ्रेंड को संग बिठाकर
पिकनिक खूब मने हों,  मैय्या में तो कार चलावन जेहों।

अगर इस हास्य की सरिता में हम शब्दों को बदल बदलकर उतारते रहेंगे तो हमें आनन्द की अनुभूति होती रहेगी। कबीरदास जी ने भी अनेक दोहे लिखे हैं। वह तो मर गये हैं, उनके दोहे में भी शब्द बदलकर हास्य का आनन्द किया जा सकता है–

साँच बराबर तप नहीं, झूठ बराबर पाप।
जो जीवन में न हँसे, वह म्रख का बाप॥
काल करे सो आज कर; आज करे सो अब।
मैरिज जो अब न करे, तो फेर करेगा कब॥

दोहे रहीमदास जी ने भी लिखे हैं, उनको भी हास्य में आओ उतार ही लिया जाये–

बड़े बड़ाई न करें, बड़े न बोलें बोल। ‘
रहिमम हीरा ने कहा, तो दे मेरो मोल।
रहिमन देख बड़ेन को, लघु न दीजिए डार।
जहाँ काम आवबे कच्छा, कहाँ करे सलवार॥
स्‍्नम्‌ वह नर मर चुके, जो नित पियें ज़राब।
उनसे पहले वह मृण, जो इसको कहें खराब ॥

इसी आधार पर हिम्मत से आगे बढ़ते रहें और कवियों की कविता उनका उसे अच्छे शब्द जड़कर हास्य बनाते रहें । अब सुभद्राकुमारी चौहान जो बीर रस की कवियित्री रहीं उनकी एक लोकप्रिय कविता ‘झाँसी की रानी’ की चीरफाड़ ऐसे की जा सकती हैं–

सिंहासन हिल उठे ऱजवंजों ने भशुकृटी तानी थी
बूढ़ी काकी के तन में फिर से आई नयी जवानी थी
गुमे हुए अपने गुस्से की, कीमत ही वह पहचानी थी
अकड़ रही थी खड़ी गली में, वह सोनू की नानी थी।

कविताओं का हास्य रूप

विभिन्‍न कवियों की कविताओं में हास्यरस की जबरन उत्पत्ति देखी। मुझे आशा है कि सभ्य समाज का यह भ्रम मिटाने के लिए कि हास्य की रचनाओं में सदा कमी रही है। आप लोग भी मेरा अवश्य साथ देंगे। यही नहीं, मन बहलाने के लिए हास्य तो कहीं भी उत्पन्न किया जा सकता है| बातों में, मुलाकातों में और अब देखें वार्ताताओं में । हास्य की झलका।

हास्य का क्या महत्व है, Hasya par lekh, essay on laugh in hindi

मित्रो, आप पूछेगें मैं कैसा हूँ, मेरा उत्तर है आई. एम. क्वाइटम्‌स्‌ वैलम। मैंने अंग्रेजी के शब्दों को संस्कृत का रूप दिया है, ताकि आप जान सकें कि मैंने उच्च शिक्षा पाई है और मैं भी ग्रेजुएट हैँ। वैसे आजकल रिक्शा चलाने वाले और मजदूर भी अच्छी अंग्रेज्ञी बोल लेते हैं।

मित्रों के साथ हास्य

एक बार मेरे एक मित्र घर आये, बातों का सिलसिला शुरू हुआ। काफी समय बीत गया, चाय के भी दौर चले । अन्त में वह मित्र उठे और बोले–अच्छा डियर्स, अब मैं चलता हूँ, घर पर फादर्स आ गये होंगे।

शराब तो अब अन्तर्राष्ट्रीय पेय बन चुकी है और सारे विश्व में इसके पीने वाले मिल जाते हैं । एक बार मुझे भी इसके मधुर सेवन-पान का सुन्दर अवसर मिला। मैं शराब को दूध समझकर पूरा गिलास बिना पानी मिलाये पी गया, क्योंकि मैं किसी भी वस्तु में मिलावट करना पाप मानता हूँ | फिर क्या था, मुझे एक आदमी के चार-चार दिखाई पड़ने लगे। तभी वह आदमी मेरे पास आया जिसने मुझे शराब पिलाने की बाजी जीत ली थी और बोला–इच्छा हो तो और ले लो। मैंने कहा–एक-एक आदमी करके बात करें, मैं चार-चार आदमियों को एक साथ जवाब देने की हालत में नहीं हूँ।

बात शराब की है तो एक घटना और है।रात के लगभग ग्यारह बज रहे होंगे। मुहल्ले में पाँच शराबी आकर शोकर मचाने लगे, रामलाल जी, रामलाल जी।

ऊपरी तीसरी मंजिल से रामलाल की पत्नी ने झाँककर कहा कि वह अभी घर नहीं आये इस पर एक शराबी ने कहा कि आप नीचे आकर रामलाल को पहचान लो और ऊपर ले जाओ, आज जरा हम लोगों ने ज्यादा ही पी ली है।

कवी सम्मेलन की घटना

कवि सम्मेलन में एक कवि ने शराब पी रखी थी । जब कविता सुनाने माइक पर आये तो बोले–दोस्तो, मैं आज जो कविता सुनाने लाया हूँ, वह तो घर सह गयी है, माइक को पकड़ा और लड़खड़ाये। फिर बोले–यह मुझे स्टेज हिलता-सा लग रहा है, मैं हिलते हुए स्टेट और हिलते हुए श्रोताओं के सामने कविता पढ़कर कविता को बदनाम नहीं करना चाहता। पहले हिलना बन्द कराया जाये, फिर मैं आपको कविता सुना सकता हूँ।

बातचीत में जो हास्य उभर आता है, मगर कभी-कभी हास्य बिना बात के भी हस जाता है। एक घटना मेरे साथ ऐसी घटी कि मुझे जब याद आती है तो पसीना आ जाता है।मैंने सिल्क का कुर्ता-पायजामा सिलवाया और संयोग से नाड़ा (अजारबन्द) भी सिल्की ही था। पहनकर बस में जा बैठा। रास्ते में पता नहीं कैसे मेरा नाड़ा लटक गया और बस में मेरे बराबर में एक महिला आकर बैठ गई | जब महिला की नजर नाड़े पर पड़ी तो उसने मेरे नाड़े को अपना नाड़ा समझकर अपनी सलवार में फँसा लिया और मैं पायजामा खुल जाने के भय से अपने नाडे की गाँठ को पकड़कर बैठ गया। मगर महिला का जोर लगाना था कि सिल्क के नाड़े पर लगी गाँठ का खुलना स्वभाविक था। मेरा स्टॉप आ गया, मगर
महिला थी कि उठने का नाम ही न ले रही थी, मुझे पसीने छूट रहे थे। मैंने संयम बाँध कर महिला से कहा–मैडम आपने जो नाड़ा अपनी सलवार में अड़ाया है वह आपका नहीं, मेरा है। आप अगर इसी तरह नाड़े से खींचतान करती रहीं तो, मैं बिल्कुल वैसा हो जाऊँगा। वह महिला मुझे घूरने लगी और में पसीने से तर होता चला गया।

उपसंहार

एक बार मैं रात को जरा देर से घर पहुँचा तो पत्नी रो रही थी, मुहल्ले को पाँच-छ औरतें पास बैठी मेरी पत्नी को दिलासा दे रही थीं। मुझे देखते ही औरतें तो चली गई, मैंने अपनी पतली से रोने का और औरतों के आने का कारण पूछा तो पत्नी ने बताया कि पिछले वाले शर्मा जी का लड़का एक घन्टा पहले आया था। उसने कहा कि रोड पर कार- टैक्सी ऐक्सीडेन्ट में एक आदमी मर गया है, उसके मुँह पर डाढ़ी है और रंग साँवला है, दुबला- पतला-सा है । मैंने समझा कि तुम्हारा ऐक्सीडेन्ट हुआ है, तुम मर गये हो और मैं भरी जवानी ‘में ही विधवा हो गयी हूँ। मेरे रोने को सुनकर मुहल्ले की औरतों का आना तो स्वभाविक ही’था। भला तुम मरो और मुहल्ला अफसोस करने भी न आये, यह कैसे हो सकता है। डार्लिंग, अच्छा अब यह बताओ, तुम उस कार ऐक्सीडेन्ट में मरे क्यों नहीं, अगर मर जाते तो तुम्हारा क्या बिगड़ जाता, कम से कम सरकार से मुझे मुआवजा तो मिल जाता। कल से यां तो जल्दी घर आया करो या फिर…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *