≡ Menu



सालों पहले बाबरी मस्जिद पर कुदाल चलाने वाले कारसेवक ‘बलबीर’ ने अपनाया मुस्लिम धर्म बना “मोहम्मद आमिर”

भारत में हर धर्म के लोग रहते हैं लेकिन कुछ लोग ऐसे हैं जो धर्म पर राजनीति करने से बाज नहीं आते हैं उन्हीं में शामिल है बीजेपी. अपनी सत्ता बरकरार रखने के लिए बीजेपी कुछ भी करने को तैयार रहती है. लेकिन हालहि में एक ऐसे शख्स का हैरतअंगेज खुलासा दिखने को मिला है जिसने पहले हिन्दुओं की तरफ से बाबरी मस्जिद के खिलाफ प्रदर्शन किया और अब ये कांड कर दिया है.

Like कीजिये हमारा फेसबुक पेज

यह है पूरा मामलाsource

दरअसल, अयोध्या में राम मंदिर और बाबरी मस्जिद को लेकर हमेशा विवाद बना रहता है लेकिन इसका हल निकालने के लिए कोई भी पार्टी आगे नहीं आती है. लेकिन इस बार एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है जिसने सबके होश उड़ा कर रख दिए हैं. 6 दिसंबर 1992 को बाबरी मस्जिद पर हमला बोलने वाले शख्स बलबीर सिंह ने अपना धर्म परिवर्तन कर लिया है.

गौरवयात्रा में शामिल था बलबीर सिंहsource

जानकारी के लिए आपको बता दें, कि जहाँ एक तरफ लोग 6 दिसंबर के दिन को काले दिन के रूप में देखते हैं वहीं दूसरी तरफ कुछ लोग इसे गौरवयात्रा के रूप में देखते हैं इसी गौरवयात्रा में शामिल है बलबीर सिंह और उनके दो दोस्त योगेंद्र पाल और शिव प्रसाद. इन्होंने बाबरी मस्जिद पर हमला बोलने वाले 4 हजार कारसेवकों को ट्रेनिंग भी दी थी.

आखिर कैसे हुआ धर्म परिवर्तनsource

सूत्रों के अनुसार पता चला है कि बलबीर सिंह का नाम अब मोहम्मद आमिर है. बलबीर से आमिर बनने के पीछे की कहानी आपको हैरान कर सकती है. हुआ कुछ ऐसा कि बलबीर सिंह ने जब बाबरी मस्जिद पर अपने दोस्तों के साथ कुदाल चलाई थी तो उसको इसका बहुत अफ़सोस हुआ था. लेकिन उसके दोस्त ने मुस्लिम धर्म अपना लिया जिसे देखकर बलबीर ने भी अपना धर्म परिवर्तन कर लिया और अब मस्जिद बनवाने में मशरूफ है.

News source 

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment