≡ Menu






उत्तरप्रदेश मे बीजेपी का सूपड़ा साफ़ करने के लिए कांग्रेस ने बना लिया है ये मास्टरप्लान !

भजपा ने 2014 के पिछले लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में 80 में से 71 सीटें जीती थी लेकिन इस इतिहास को दोहराना बीजेपी के लिए इस बार लगभग असंभव है इसके पीछे सीधे सीधे तौर पर वजह है उत्तर प्रदेश में एसपी-बीएसपी-आरएलडी का गठबंधन और देश की सबसे पुराणी पार्टी कांग्रेस के मजबूत होने से बीजेपी की मुश्किलें बढ़ गयी है

source

एसपी-बीएसपी गठबंधन में आरएलडी के जुड़ने से बीजेपी के लिए बागपत सीट को वापस से हथियाना हो गया है मुश्किल क्युकी अब यहाँ से जयंत चौधरी खड़े हो सकते हैं।

बीजेपी की बागी सावित्री बाई फुले बहराइच आरक्षित सीट से कांग्रेस पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ेंगी क्युकी उनकी जीत की अच्छी संभावना है

source

कैराना, फूलपुर और गोरखपुर की सीटों पर हुए उपचुनाव में बीजेपी पहले ही हार चुकी है जिस वजह से यहाँ पर एसपी-बीएसपी-आरएलडी ने अच्छी पकड़ बना रखी है कानपुर की बात करे तो यहाँ पर मुरली मनोहर जोशी चुनाव नहीं लड़ने का फैसला करते हैं तो पार्टी को सीधे तौर पर बड़ा झटका लग सकता है

source

बीएसपी प्रमुख मायावती का अकबरपुर और अंबेडकरनगर की सीटों पर पहले से ही काफी दबदबा रहा है और गठबंधन के बाद बीजेपी की यहाँ दाल गलना मुश्किल है। इसके अलावा भजपा को बलिया, भदोही, चंदौली, फतेहपुर और देवरिया में एसपी को कड़ी टक्कर देनी होगी क्युकी सपा का पलड़ा यहाँ भारी है। मथुरा से हेमा मालिनी और सुल्तानपुर से वरुण गांधी को भी उम्मीदवार के तौर पर खड़ा किया जाना है या नहीं यह भी पार्टी अभी तय नहीं कर पायी है

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment