≡ Menu






रिपोर्ट : आयात निर्यात के क्षेत्र में मोदी ने डुबाये भारत के 3.5 लाख करोड़, लेकिन डॉ मनमोहन के आकड़ें भी देख लें

भारत देश की बदकिस्मती रही है कि जो भी यहाँ नेता बना है उसने किसी न किसी रूप में जनता को ठगा है. अगर पहले की बात की जाए तो देश को भ्रष्टाचार नामक कीड़े ने खोखला करके रख दिया है लेकिन इस बार भी परिस्थितियां कुछ ज्यादा बदली नहीं है. आये दिन एक से बढ़कर एक बड़े घोटाले सामने आते रहे हैं लेकिन हैरान करने वाली बात ये है कि जनता के अस्तित्व को बचाने का वादा करने वाली बीजेपी भी इन घोटालों में शामिल है.

मोदी सरकार का भांडा फोड़source

वैसे तो देश को कई स्तर पर बड़े बड़े नुकसान झेलने पड़े हैं लेकिन आज हम आपको ऐसे नुकसान के बारे में बताने जा रहे हैं जो वतर्मान की मोदी सरकार ने किये हैं. आयात निर्यात के क्षेत्र में मोदी सरकार ने देश के पैसों को डुबाने में कोई कसर नहीं छड़ी है. जबकि मोदी ने सत्ता में आने के बाद जनता को भरोसा दिलाया था कि वह दिन दोगुनी और रात चौगुनी करेंगे, लगता है ये वो मुहावरा वो बीजेपी के साथ पूरा कर रहे हैं.

यूपीए की सरकार में हुआ इतना मुनाफाsource

जानकारी के लिए आपको बता दें, कि जब देश में यूपीए की सरकार थी तब देश को निर्यात क्षेत्र में 136 बिलियन डॉलर यानि लगभग 10 लाख करोड़ रुपए का फायदा हुआ था वहीं, मोदी सरकार के कार्यकाल में अब तक देश को निर्यात क्षेत्र में 52 बिलियन डॉलर यानि लगभग 3.5 लाख करोड़ का नुकसान हो चुका है. इतना ही नहीं आने वाले दिनों में न जाने कितना और नुकसान देश को झेलना पड़ सकता है.

इन योजनाओं के कारण हुई ये दशाsource

अगर देश आज इतनी बुरी हालत में है तो उनके पीछे मोदी सरकार के द्वारा चलाई गई ये  योजनायें. इन योजनाओं में पहली है नोटबंदी जिसके कारण हज़ारों कारखाने बंद हुए और लोग बेरोजगार हुए जिससे निर्यात में भारी गिरावट आई. दूसरी, जीएसटी सिस्टम में निर्यातकों के 90,000 करोड़ रुपए फंस गए थे और अभी भी 20,000 करोड़ रुपए फंसे हुए हैं.

News source 

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment