≡ Menu



बड़ा खुलासा : भ्रष्टाचार के नाम पर मोदी सरकार ने राजस्थान में लगाया सरकारी खजाने को करोड़ों का चूना

साल 2014 में सत्ता में आये बीजेपी भ्रष्टाचार को लेकर तमाम दाबा किया करती थी. लेकिन इन दिनों मोदी सरकार की पोल खुलती जा रही हैं. इतना ही नहीं मोदी पीएम बनने के बाद अपने आप को देश का चौकीदार और ‘प्रधानसेवक’ बताते हैं. हालांकि उनके राज में सबसे ज्यादा घोटालों की खबर सामने आती रहती है. अपने पीएम मोदी को अक्सर कहते सुना होगा कि न खाऊंगा न खाने दूंगा, लेकिन सच्चाई किसी से नहीं छुपा है.

Like कीजिये हमारा फेसबुक पेज

मोदी राज में एक और घोटालsource

बीते 4 सालों में एक से बढ़कर एक घोटाले सामने आये हैं. लेकिन दुःख का बात तो यह हैं कि आजतक इन घोटाले बाजों पर सरकार कोई एक्शन नहीं ले पाती हैं. एक्शन ले भी कैसे हर घोटाले बाज के पीछे किसी बड़े नेता का हाथ जो होता हैं. एक रिपोर्ट की माने तो UPA की सरकार के मुकाबले मोदी सरकार में घोटाले ज्यादा हुए हैं. अपने आप को चौकीदार कहने वाले मोदी आजतक यह नहीं बता पाए कि देश में काला धन कब वापस आएगा.

यह है पूरा मामलाsource

विपक्षी पार्टी लगातार बीजेपी के काली करतूतों से पर्दा उठाती रहती है. लेकिन इन सब के बाबजूद पीएम मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के कानो में जू तक नहीं रेंगती हैं. वहीं राजस्थान से एक चौका देने वाला मामला सामने आया हैं. बताया जा रहा है कि सीएम वसुंधरा राजे पर एक गंभीर आरोप लगे हैं. जानकारी के मुताबिक उनके ऊपर घोटाले जैसे संगीन आरोप लगे हैं. चलिए जानते हैं पूरा मामला.

दोगुने दाम पर खरीदी गई बिजलीsource

खबरों कि माने तो वसुंधरा सरकार ने अपने चहेते 3 बड़ी कंपनियों से  41966.44 करोड़ रुपए की बिजली खरीदी. लेकिन के प्रवक्ता सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि बीजेपी राज्य में दुगनी कीमत पर बिजली खरीद कर लोगों से ज्यादा पैसे वसूल किए हैं. सुरजेवाला के मुताबिक बिजली का साला दाम 25,951.75 करोड़ रुपए हैं. इसे साफ है कि बीजेपी सरकार ने बिजली खरीदने में सरकारी खजाने को चुना लगाया हैं.

news source 

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment