≡ Menu






BJP प्रवक्ता के इस पत्र का जवाब नहीं ढूढ़ पा रही योगी सरकार

लखनऊ : यूपी सरकार द्वारा दी जाने वाली यश भारती पेंशन पर रोक लगने पर बीजेपी प्रवक्ता नरेंद्र सिंह राणा ने योगी सरकार को पत्र लिखा है। उन्होंने मांग की है कि उनकी पेंशन को दोबारा शुरू किया जाए, क्योंकि उनका गुजारा इसी से चलता है। यश भारती पेंशन के तहत यश भारती सम्मान और पद्म पुरस्कार पाने वाले 172 लोगों को हर महीने 50 हजार रुपए की पेंशन दी जा रही थी। अखिलेश सरकार के समय शुरू हुई यह पेंशन पर जब-तब सवाल उठते रहे थे।

यश भारती पेंशन में कथित अनियमितताओं को लेकर संस्कृति मंत्रालय ने योगी सरकार को पत्र लिखकर इसकी समीक्षा की मांग की थी। यह पेंशन पाने वालों में कांग्रेस नेता राज बब्बर समेत क्रिकेटर सुरेश रैना तक शामिल हैं। एक आरटीआई द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक यश भारती पेंशन पर राज्य सरकार अब तक 9.11 करोड़ रुपये खर्च कर चुकी है।

letter by narendra singh rana to yogi adityanath

नरेंद्र सिंह राणा ने योगी सरकार को पत्र लिख कहा है, ’50 हजार रुपए की यह पेंशन प्रदेश का नाम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर रोशन करने वालों को दी जाती है। वर्तमान में यह पेंशन रोक दी गई है। इससे बहुत लोगों का गुजारा चलता है जिसमें मैं भी हूं।’ राणा ने मांग की है कि इसे पुन: बहाल किया जाए। राणा ने बताया है कि उन्हें अंतरराष्ट्रीय पावरलिफ्टिंग कोच होने के नाते यह पेंशन दी जाती थी।

यश भारती की शुरुआत 1994 में मुलायम सिंह यादव के सीएम रहते हुई थी लेकिन अगले ही साल सीएम बनीं मायावती ने इसे खत्म कर दिया था। पिछले साल तत्कालीन सीएम अखिलेश यादव ने यश भारती और यूपी से पद्म पुरस्कार पाने वाली विभूतियों को 50 हजार रुपए हर महीने पेंशन देने का आदेश दिया था। इससे पहले यश भारती के तहत एकमुश्त राशि दी जाती थी। यश भारती पाने वालों में अमिताभ बच्चन, अभिषेक बच्चन जैसी हस्तियां भी शुमार हैं, हालांकि, वे पेंशन नहीं लेते।

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment