≡ Menu






पेट्रोल-डीजल को सस्ता करने के पीछे देखिये ये है मोदी सरकार की असली मंशा, देखिये ये रिपोर्ट

पिछले 4 सालो से लगातार तमाम ईंधनों के दाम दिन प्रति दिन बढ़ती जा रही हैं. लेकिन ईंधनों के दामों में लगी आग की तपिश आखिरकार मोदी सरकार को भी महसूस हो ही गई. आपको याद दिला दे कि साल 2014 के चुनावी रैली में सस्ते पेट्रोल-डीजल का वादा कर सरकार में आई बीजेपी के ही राज में यही सब सबसे ज्यादा महंगा हो गया हैं.source

कई दिनों से बढ़ते पेट्रोल, डीजल के दामो को लेकर इनके मंत्री ने तमाम तरह के उलटे पुल्टे बयान दिए, लेकिन आखिरकार मोदी को आज ही क्यों एक्साइज ड्यूटी में कटौती करने का ख्याल आया. तो चलिए आज हम आपको इस राज से पर्दा उठाते हैं.

बड़ी कटौती का फैसला अभी क्यों?source

बीते कुछ महीने से लगातार पेट्रोल, डीजल के दामो में इजाफा हो रहा था. एक समय ऐसा भी आया था जब पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान भी आग उगलती कीमतों के आगे घुटने टेकते नज़र आ गए थे. ऐसे में सवाल यह उठता हैं की अचानक सरकार इतनी बड़ी कटोती का फैसला क्यों लिया ?source

अगर आप सोच रहे हैं की जनता का भला होगा इससे, तो फिर ये कदम कुछ दिन पहले क्यों नहीं उठाया गया. मोदी सरकार पर इस मसले पर चौतरफा दबाव है और इसी वजह से यह फैसला अभी लिया गया है. साथ ही चुनावी माहोल को देखते हुए भी ये फैसला लिया गया हैं.

पांच राज्यों में विधानसभा चुनावsource

आपको बता दे की इस साल के अंत में 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव होने को हैं. साफ़ हैं की इन इन चुनावों के परिणाम का सीधा असर लोकसभा चुनाव 2019 पर भी असर डालेगा. जैसा की हम सब जानते हैं 4 साल पहलेके मुकाबले इस बार बीजेपी शासित राज्यों में बीजेपी की हालत नाजुक हैं. ऐसे में बढ़ते पेट्रोल, डीजल के दामो में रोक नहीं लगई तो चुनाव में इसका परिणाम भुगतना पड़ सकता हैं. जानकारों के मुताबिक चुनाव को देखते हुए अगले कुछ दिनों तक इसमें और भी कटोती की जा सकती हैं.

महंगाई पर ना अपने साथ हैं ना पराएsource

मोदि सरकर अक्सर विपक्ष के निशानों पर बनी रहती हैं. शायद आपको पता होगा कि सबसे महंगा पेट्रोल-डीजल महाराष्ट्र में मिलता हैं. लेकिन वहां बीजेपी और शिवसेना की गठबंधन की सरकार हैं. हालांकि शिवसेना बीजेपी पर निशाना साधने के लिए एक भी मौका नहीं छोड़ती हैं. ऐसे में भाजपा अपने साथी दलों को नाराज करने का जोखिम नहीं उठा सकती.

News source

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment