≡ Menu






मोदी राज में पासपोर्ट कार्यालय में भी हुई धर्म के नाम पर इस जोड़े के साथ शर्मनाक घटना

इस दुनिया में हर किसी जन्म किसी न किसी मकसद के लिए हुआ है. कोई भी व्यक्ति किसी जाति या धर्म से पहले वह एक इन्सान होता है. लेकिन कुछ लोगों ने धर्म और जाति के इस  मायाजाल में सबको को फंसा कर रखा है. ये धर्म किसी और न नहीं बल्कि इंसानों ने ही बनाये हैं और इन्हीं कि आड़ में धर्म के पुजारी लोगों को भ्रमित करने से बाज नहीं आते हैं.

हालहि में देखने को मिला हैरान करने वाला मामला source

सोशल मीडिया पर धर्म के नाम पर कई लोग दंगे भडकाने का काम करते हैं लेकिन हालहि में एक ऐसा हैरतअंगेज मामला देखने को मिला है जिसने लोगों के होश उड़ा कर रख दिए हैं. आइये आपको बताते हैं आखिर क्या है पूरा मामला. एक ऑफिस में दम्पति के साथ संप्रदायिक करने का मामला सामने आया है जहाँ उनका काम सिर्फ इसलिए नहीं किया गया क्योंकि वह अलग अलग धर्म से संबंध रखते हैं.

पासपोर्ट ऑफिस में कहा कि अपना लो हिन्दू धर्मsource

दरअसल हुआ कुछ ऐसा था कि एक दम्पति ने पासपोर्ट बनाने के लिए लखनऊ में अर्जी डाली थी जिसको एक अधिकारी ने केवल यह कह कर ख़ारिज कर दिया कि वह अलग अलग धर्म से संबंध रखते हैं. उसने मुस्लिम से हिन्दू धर्म अपनाने के लिए प्रताड़ित भी किया है. दम्पति का कहना है कि उन्होंने टेस्ट A और B तो पास कर लिए लेकिन C में फंस गये.

हिंदूवादी सोच वाले इस अधिकारी ने की महिला से बदसलूकीsource

 

दम्पति का कहना यह भी है कि उनको एपीओ ऑफिस में इंटरव्यू के लिए बुलाया गया था जिसमें हिन्दू का चोला ओढ़ने वाले इस अधिकारी ने महिला के साथ बदसलूकी की. इस अधिकारी का नाम विकाश मिश्र बताया जा रहा है. विकास मिश्रा ने यह भी कहा कि अगर उसने हिन्दू धर्म नहीं अपनाया तो उसकी शादी नहीं मानी जाएगी. इतना ही नहीं विकास मिश्रा ने अनस से कहा कि वह हिन्दू धर्म स्वीकार कर ले.

दम्पति ने की वेश मंत्री  से शिकायत source

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक मोहम्मद अनस सिद्दीकी ने साल 2007 में लखनऊ में तन्वी सेठ से शादी की थी और वे खुशहाल ज़िंदगी व्यतीत कर रहे हैं. उनकी एक छह साल की बेटी भी है. इस मामले के बाद उन्होंने विदेश  मंत्री सुषमा स्वराज से शिकायत भी की है कि इस अधिकारी ने उन्हें हिन्दू धर्म अपनाने की सलाह भी है.

source

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment