इस वजह से रामनाथ कोविंद की राष्ट्रपति उम्मीदवारी हो सकती है खारिज


हरिद्वार के एक व्यक्ति ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त को पत्र लिखकर अपील की है कि राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को चुनाव लड़ने से रोका जाए। जानिए, पूरा मामला…

राष्ट्रीय सूचना अधिकार जागृति मिशन के अध्यक्ष आरटीआई कार्यकर्ता रमेश चंद्र शर्मा ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त को पत्र भेजकर एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को चुनाव लड़ने से रोकने और अयोग्य घोषित करने की मांग की है। उन पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए है।

आरटीआई के तहत मांगी गई सूचना के आधार पर रमेश चंद्र शर्मा ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त को भेजे शिकायती पत्र में बताया कि रामनाथ कोविंद हरिद्वार में चंडी पुल के नीचे स्थित एक संस्था के आजीवन संरक्षक हैं।

Ramnath Kovind Image

रामनाथ कोविंद पर लगाए गंभीर आरोप
रमेश चंद्र शर्मा ने आरोप लगाया कि उन्होंने 1997 में इस संस्था का गठन कराया था और राज्यसभा सांसद की अपनी निधि से संरक्षक रहते इस संस्था को 25 लाख रूपए भी आवंटित करा दिए थे जिससे कुंभ मेले के परियोजना के लिए संरक्षित भूमि पर निर्माण कार्य कराया गया।

उन्होंने अपने राजनीतिक प्रभाव का इस्तेमाल करते हुए नियम विरुद्ध यहां अवैध निर्माण कराने और बाद में अतिक्रमण वाली इस भूमि का अस्थायी उपयोग करने का शासनादेश भी करा लिया था। संबंधित परिसर को ध्वस्त करने का नोटिस चार अप्रैल 2015 को जारी किया गया था और अभी भी यह कैंपस अतिक्रमण के खिलाफ चलाए जाने वाले अभियान की जद में है।

इस आधार पर उन्होंने कोविंद को राष्ट्रपति का चुनाव लड़ने से रोकने की अपील की है। अन्यथा सुप्रीम कोर्ट में जाने की बात कही है।

1 thought on “इस वजह से रामनाथ कोविंद की राष्ट्रपति उम्मीदवारी हो सकती है खारिज”

  1. Samit Mukherjee says:

    Jab tak desh ke log muh me tala lagake baithe rahenge tab tak Tax lagane ki silsila band nahi hogi.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *