≡ Menu



सोशल मीडिया बनी मोदी सरकार के लिए गले की फांस, पीएम मोदी ने फेसबुक से हटवाए करोड़ों पोस्ट !

जब से केंद्र में मोदी सरकार की सत्ता आई हैं, तब से हर दिन कोई न कोई विवादों में फंसती नज़र आती हैं.बता दे कि साल 2014 के बाद से मोदी सरकार ने अपनी पार्टी के प्रचार के लिए सोशल मीडिया का खूब इस्तेमाल करती हैं. यह कोई पहला मामला नहीं है, इससे पहले भी साल 2016  में डाटा अनालिस्टिक में मोदी सरकार बुरी तरह से फंसी थी.

Like कीजिये हमारा फेसबुक पेज

रिपोर्ट में खुली मोदी सरकार की पोल source

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि हाल ही में जारी एक रिपोर्ट में मोदी सरकार की पोल खोल कर रख दी हैं. इस रिपोर्ट के मुताबिक बीते 4 सालो में केंद्र सरकार द्वारा यूजर्स के डेटा की मांग में रिकॉर्ड बढ़ोतरी हुई है. यह रिकॉर्ड लगातार बढ़ती जा रही हैं. रिपोर्ट में साफ तौर पर कहा गया हैं की मोदी सरकार फेसबुक यूजर्स की जानकारी लगातार सार्वजनिक कर रही हैं. यह देश के लिए अच्छी बात नहीं हैं.

मोदी सरकार अपने फायदे के लिए …..source

हाल में ही जारी रिपोर्ट के मुताबिक मोदी सरकार फेसबुक से कई तरह के कंटेंट हटाने के लिए दबाव बना रही है. वहीं अगर बात करें आंकड़ों की तो सरकार साल 2015 में फेसबुक से कंटेंट हटाने के मामले में भारत सबसे आगे हैं.रिपोर्ट में बताया गया है की सरकार ने करीब 30,000 बार फेसबुक से लोगों के कंटेंट हटाने की कोशिश की हैं. रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है कि मोदी सरकार फेसबुक से धार्मिक, नफरत फैलाने वाले बयान, देश विरोधी और मानहानि से जुड़े पोस्ट्स हटाने के लिए कहा था.

फेसबुक के नियम पर उठे सवाल source

आपकी जानकारी के लिए बता दे की फेसबुक देश के कानून के तहतऔर सरकार के शर्तों के मुताबिक काम करती हैं. फेसबुक यह नियम बनाने के लिए बाध्य है. सरकार जब भी चाहे वो फेसबुक या कोई भी सोशल नेटवर्किंग साइट की जानकारी मांग सकती हैं. रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि 2013 में मोदी सरकार ने फेसबुक से सिर्फ 8 बार ऐसी जानकारियां मांगी थी. हालांकि यह साफ नहीं हो पाया है की सरकार किस तरह की जानकारी मांगी थी.

news source 

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment