≡ Menu






दागी नेताओं के चुनाव लड़ने पर रोक: सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया अपना ऐतिहासिक फैसला

दागी नेताओ के चुनाव लड़ने के मामले में पर आज सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया हैं. कोर्ट ने नेताओ को लतारते हुए कहा कि संसद, राजनीति में अपराधियों को आने से रोका जाए. इसका मतलब यह हुआ कि दागी नेता पर यदि आरोप साबित हो जाता हैं तो वह नेता आगे का चुनाव नहीं लड़ सकता हैं. इस फैसले के बाद सबसे ज्यादा बीजेपी को सदमा या फिर कहे झटका लगा हैं.

– सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसलाsource

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि सुप्रीम कोर्ट के एक बेंच ने सुनवाई करते हुए कह कि दागी नेताओं के दोषी ठहराए जाने से पहले उन्हें आयोग्य ठहराए जाने वाले यकिचा पर सुनवाई करते हुए फैसला सुना दिया हैं. उनके चुनाव लड़ने पर रोक लगाने से इनकार करते हुए साफ किया कि सांसदों और विधायकों पर आरोप लगने भर से उन्हें अयोग्‍य नहीं ठहराया जा सकता है. फैसला देने के दौरान कोर्ट ने ये भी कहा कि राजनेताओं को अपने आपराधिक रिकॉर्ड का ब्योरा देना जरूरी होगा. सभी पार्टियो को अपने मंत्री का डिटेल्स वेबसाइट पर अपलोड करना जरुरी हैं.

– नेताओ को आपराधिक रिकॉर्ड का ब्योरा देना अनिवार्यsource

कोर्ट ने कहा कि हर नेता को चुनाव आयोग के पास लिखित रूप  में अपने आपराधिक मामले का जानकारी देना होगा. साथ ही साथ पार्टी को पाने वेबसाइट पर भी अपलोड करना जरुरी है. कोर्ट ने कहा कि चार्जशीट के आधार पर उम्मीदवार को चुनाव लड़ने पर रोक नहीं लगाई जा सकती. यह संसद का काम हैं न की कोर्ट का काम हैं ऐसे कानून बनाए.

– चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया दीपक मिश्रा ने पढ़ा फैसलाsource

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया दीपक मिश्रा के साथ 5 अध्यक्ष की बेंच ने याचिका पर सुनवाई करते हुए इस मामले में अब दखल देने से इनकार करते हुए इस मामले को संसद पर छोड़ दिया है. कोर्ट के मुताबिक नेता को आपराधिक रिकॉर्ड सार्वजनिक करना होगा.

News source 

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment