≡ Menu






LIC और म्यूचुअल फंड निवेशकों का निकलने वाला है दिवालिया, अगर आप ने भी किया हैं निवेश तो जरुर पढ़ें

भारत में नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनी IL&FS का बहुत बुरा हैं. बताया जा रहा हैं कि इस कंपनी पर लगभग 90 हजार करोड़ का कर्ज बकाया हैं. इस मामले को सामने आने के बाद अर्थव्यवस्था को बड़ा झटका लगा हैं. ऐसा लग रहा हैं जैसे शेयर बाज़ार में भूचाल आ गया हो. निवेशकों में दर दिखाई दे रहा है.

बड़ी कंपनी  के उपर पड़ा बुरा असरsource

आपकी जानकारी के लिए बता दे की LIC, SBI, Central Bank, UTI समेत कई बड़ी कंपनियों की साख पर इसका बुरा असर पड़ा है. बता दे कि इस सब कंपनी में भारत सरकार का 40 % हिस्सेदारी  होती हैं. ऐसे में सरकार ही मात्र एक सहारा हैं, जिससे कोमप्न्य अपनी शाक को बचा सकती हैं. इससे जुड़ी खाश बातो के बारे में जान लीजिये –

कम्पनी का कर्ज सरकार पर ज्यादा हो गया हैंsource

मिली जानकारी के मुताबिक बड़ी मात्र में कंपनी के प्रोजेक्ट्स को बंद कर दिया गया हैं. क्युकि सरकार के उपर लगभग  1700 करोड़ रुपए कंपनी का बकाया बताया जा रहा हैं. इसके बाद से ही कंपनी की मुश्किलें बढ़ती चली गईं. कंपनी की मुश्किल ये है कि उसने जिन्हें कर्ज़ दिया है, वो इसे लौटा नहीं पा रहे हैं. 450 करोड़ तो सिर्फ IL&FS को दिया है.  बाकी 500 करोड़ उसकी दूसरी सहायक कंपनियो को लोन दिया है.

घटी कंपनी की रेटिंग :source

बताया जा रहा हैं इसके कारण कोम्पनु के शाक पर बुरा असर पड़ा हैं. इसकी रेटिंग AA + से हटकर जंक स्टेटस में बदल गया हैं. अगर ILNFA डूबी तो सबकुछ एक झटके में बर्बाद हो सकता हैं.

म्यूचुअल फंड्स को बड़े नुकसान की आशंका :source

बताया जा रहा हैं कि कंपनी में म्यूचुअल फंड कंपनियों का 2 लाख 65 हजार करोड़ रुपया लगा हुआ हैं. ऐसे में अगर कुछ होता हैं को लोगो के बीच इस कंपनी का शाक ख़राब होगा. म्यूचुअल फंड को हो रहे नुकसान से इसमें निवेश करने वालों की की हालत ख़राब हो रही हैं.

क्या होगा शेयर बाजार पर असर :source

आपको बता दे कि इसका असर शेयर बाज़ार पर भी होगा. जितनी भी कंपनियां जुड़ी थीं सभी को भारी नुकसान  होगा. सेंसेक्स और निफ्टी में भी भाड़ी गिरावट का माहोल दिख रहा हैं.वित्त विशेषज्ञ योगेश बागोरा के अनुसार, बाजार के लिए यह एक बड़ा झटका है. मार्किट में फिर से इस अस्तर पर अआने में लगभग 6 महीने से या इससे ज्यादा का समय लग सकता हैं.

क्या होगा मोदी सरकार पर असर :

जैसा की हम सब जानते हैं कुछ दिन में विधानसभा चुनाव के साथ लोकसभा चुनाव होने को हैं. ऐसे में मोदी सरकार की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. सरकार ने मामले से निपटने के लिए IL&FS को बचाने के लिए रेस्क्यू प्लान तैयार कर लिया है.

News Source

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment