≡ Menu






बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के अहम फ़ैसले का रास्ता हुआ साफ़, तारीख हुई तय, पढ़ें पूरी रिपोर्ट !

अयोध्या विवाद में सुनवाई होने की एक उम्मीद बढ़ गयी है. जानकारी के लिए बता दे कि सुप्रीम कोर्ट ने “इस्लाम की अनिवार्यता” वाले फैसला को ठुकरा दिया हैं. तीन जजों की बेंच ने सुनवाई की तारीख बढ़ते हुए 29 अक्टूबर तय किया हैं. अब इस मामले की लगातार सुनवाई होने की उम्मीद ज्यादा हैं.

क्या था मस्ज़िद की अनिवार्यता का सवालsource

बता दे कि यह मामला 1994 में इस्लाम फारुखी बनाम भारत सरकार के बीच था. इस मामले में अयोध्या में विवादित ज़मीन के सरकारी अधिग्रहण को चुनौती दिया गया था. फारुखी के मुताबिक भारत सरकार मस्जिद की जगह को नहीं ले सकती हैं. इस अधिग्रहण को सुप्रीम कोर्ट ने गलत ठहराया हैं.source

साथ ही कोर्ट ने ये भी कहा कि  नमाज तो इस्लाम का अभिन्न हिस्सा है, इससे कोई नहीं छीन सकता हैं. साथ ही ये भी कहा कि इसके लिए जरुरी नहीं कि मस्जिद में ही नमाज किया जाए. वहीँ मुस्लिम पक्ष की यह दलील थी की कोर्ट के ये फैसला उसके दावे को कमजोर सकती हैं. इस लिए कोर्ट से गुहार लगाया था की  इस पर पुनर्विचार किया जाना चाहिए.

कोर्ट ने क्या कहा?source

मिली जानकारी के मुताबिक तीन जजों की बेंच ने इस मांग को ठुकरा दिया. साथ ही CJI दीपक मिश्रा और अशोक भूषण ने साझा फैसले में कहा कि इस्माइल फारुखी जिस फैसले पर सवाल उठा रहे हैं उससे ध्यान से देखने की जरूरत हैं. ये भी जान लीजिये की वो दलील ज़मीन के अधिग्रहण को लेकर था.source

इसके पर 5 जजों की बेंच ने कहा कि सरकार को हक़ हैं जमीन का अधिग्रहण कर सकती है. जज ने साफ़ कर दिया की हम तथ्य के मुताबिक फैसला देंगे.

अब आगे कोर्ट से क्या फैसला मिल सकता हैं?source

जानकारी के लिए बताते चले की अदालत में सबूत और बहुमत का फैसला मान्य होता हैं. बस अब देखना यह दिल्चप्स होगा की इस मामले की सुनवाई कब तक शुरु होगी. हिंदू पक्ष ने भी कहा है कि वो कोर्ट से रोजाना सुनवाई की मांग कर तेज़ी से केस को निपटाने की मांग करेगा. हालांकि इस मामले की सुनवाई कब शुरु होगी और कब तक चलेगा यह कहना मुश्किल होगा.

News source

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment