≡ Menu






टिकट नहीं मिलने से बगावत कर चुके भाजपा के इस बड़े नेता ने अपनी ही पार्टी की पोल खोलते हुए कहा ”डेढ़ करोड़ में ”…

आगामी लोकसभा चुनाव को देखते हुए बीजेपी को कोई न कोई झटका लगा रहा है. हालांकि ये कोई पहला मामला नहीं है जब बीजेपी से नाराज़ हो कर नेता अपने पद से इस्तीफा दे रहे है. जानकारी के मुताबिक पार्टी विधायकों और मंत्रियों के  बीच चल रही खींचतान अब लोकसभा चुनाव के पहले भी दिखाई देने लगी है. टिकट के बंटवारे को लेकर पार्टी के भीतर बगावती सुर उठने लगे है.

बीजेपी को एक और बड़ा झटका…

source

जैसा की हम सब जानते है बीजेपी के शासनकाल में भ्रष्टाचार घटने के बजाये बढ़ता जा रहा है. इसका ताजा उदाहरण 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव में देखने को मिला, जब बीजेपी के ही कद्दावर नेता ने अपनी ही पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. बताया जा रहा है कि एमपी से बीजेपी विधायक मथुरा लाल डामर कोटिकट न मिलने से पार्टी से नाराज चल रहे है.

पार्टी के अंदर बगावती सुर…

रतलाम ग्रामीण भाजपा विधायक मथुरा लाल डामर हुए नाराज कहा पैसे देकर लाए टिकिट!! ई 1.5 करोड़ दे ने लाया टिकिट!! कार्यकर्ता ने देता टिकिट कर्मचारी ने दे दियो !!


source

मथुरा लाल डामर ने पार्टी पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि पार्टी के मुखिया जान बुझ कर दिलीप मकवाना को टिकट दिया है. इसके बदले दिलीप मकवाना ने पार्टी को करीब 1.50करोड़ रुपए भी दिए है. इसे साफ़ है की जब पार्टी के अंदर भी कई भ्रष्ट नेता मौजूद है, तो फिर देश से भ्रष्टाचार कसे दूर हटाया जा सकता है. इतना ही नहीं मथुरालाल डामर ने खरी खोटी सुनाते हुए दिलीप को कहा की तुम कार्यकर्ता नहीं कर्मचारी हो जो पैसे लेकर टिकट खरीदा है.

बीजेपी में खरीद फरोख जारी…

source

जैसा की हम सब जानते है चुनाव आते ही पार्टी के अंदर टिकेट को लेकर मारा मरी शुरू हो जाता है. इसके साथ ही टिकट न मिलने से कई नेता पार्टी से नाराज भी हो जाते है. लेकिन इसका यह मतालबा तो नहीं कि पैसे लेकर टिकट दिया जाए. एक तरफ पीएम मोदी देश को भ्रष्टाचार मुक्त बनाने की बात करते है, वहीं दूसरी और उनके ही पार्टी के अंदर भ्रष्टाचार अपने चरम सीमा पर पहुच चुकी है.

news source

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment