≡ Menu



बिना टिकट ट्रेन में पकड़ी गई छात्रा, फिर उसके साथ टिकट चेकर ने किया ये काम

दिल्ली से वाराणसी जाने वाली भारतीय रेल की काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस में हाल ही में एक ऐसी घटना घटी जिसने एक बार फिर इंसानियत को शर्मिंदा कर दिया. दरअसल, टिकट चेकर ने एक लड़की को बिना टिकट यात्रा करते हुए पकड़ने के बाद उसके साथ कुछ ऐसा करने की कोशिश की जिसनें एक बार फिर रेल में लड़कियों की सुरक्षा पर सवाल खड़े कर दिए.

Like कीजिये हमारा फेसबुक पेज

बिना टिकट यात्रा करने वाली लड़की के साथ टिकट चेकर ने की ये हरकत 

मीडिया रिपोर्ट की माने तो, लड़की को बिना टिकट पकड़ने के बाद टिकट चेकर ने लड़की की इस गलती का फायदा उठाने के लिए पहले तो उसे AC कोच में जगह दी. और फिर अपना रौब दिखाने के लिए लड़की से कहा कि अगर कोई उसे कुछ बोले तो बोल देना कि तुम टीटीई रवि कुमार मीणा की गर्लफ्रेंड हो.source

लड़की का फ़ायदा उठाना चाहता था टिकट चेकर 

लड़की ने ये सभी आरोप टिकट चेकर पर लगते हुए इस बात का खुलासा किया. लड़की ने ये भी बताया कि आरोपी टिकट चेकर ने उससे ये भी कहा कि अगर वह उसकी गर्लफ्रेंड बन जाती है तो वह उसे जिन्दगी भर खुश रखेगा.

लड़की की शिकायत पर आरोपी की हुई गिरफ्तारी 

टिकट चेकर की ये बात सुनकर लड़की ने उसके ऊपर भड़कते हुए उसकी शिकायत जीआरपी से कर दी. जिसके बाद आरोपी टीटी को हिरासत में लिया गया. इस घटना की जानकारी देते हुए जीआरपी के एसएसआई हरेंद्र कुमार ने खुद बताया कि,

“छात्रा बिना टिकट ट्रेन में बैठी थी और उसने टीटीई से सीट के लिए मदद मांगी. जिसके बाद टीटी ने AC कोच में सीट दिलाने के बाद वह उसका फायदा उठाना चाहता था. लेकिन, लड़की के पास ही बैठी एक महिला ने हिम्मत करते हुए ट्रेन में खड़े एक जीआरपी के सिपाही से यह पूरी घटना बता दी.”

आरोपी पर पहले भी लगा हुआ है बलात्कार का आरोप

इस बात में कोई दौराय नहीं है कि एक महिला की सुझबुझ और बहादुरी से ट्रेन में छेड़खानी की एक और घटना होने से बच गई. मामले की गंभीरता को देखते हुए महिला की शिकायत पर जीआरपी ने टीटीई रवि कुमार मीणा को तो गिरफ्तार कर लिया. लेकिन, जीआरपी को उस वक्त हैरानी हुई जिस वक्त इस बात का भी खुलासा हुआ कि आरोपी टीटी पर पहले से ही बलात्कार का आरोप है.source

2 साल पहले टिकट चेकर को हुई थी जेल

टिकट चेकर की गिरफ्तारी के बाद इस बात का भी खुलासा हुआ कि साल 2016 में बलात्कर की कोशिश के मामले में उसे एक बार जेल की सजा मिली है इसके बावजूद वह ट्रेन में टीटीई कि नौकरी कर रहा था.

बताते चले कि यह घटना गजरौला और काकाठेर के बीच घटी, जिस वक्त दिल्ली यूनिवर्सिटी में बीएसी द्वितीय वर्ष की पीड़ित छात्रा अमरोहा अपने घर जा रही थी.  छात्रा ने पुलिस को बताया  कि वह जल्दी में थी और ट्रेन पकड़ने के चक्कर में टिकट नहीं ले सकी. जिसके बाद उसके साथ ऐसी घटना हो गई.source

बलात्कार का दोषी होने के बाद भी मिली टीटी की नौकरी

ऐसे में अब ये बड़ा सवाल खड़ा हो रहा है कि जब आरोपी टीटी पर पहले से ही बलात्कार के मामले में 16 महीने जेल में रहने का आरोप लगा हुआ है तो उसे सरकारी नौकरी पर कैसे रखा गया.

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment