≡ Menu






चुनाव प्रचार के लिए सिर्फ यही एकमात्र ‘शख्स’ सरकारी प्लेन का कर सकता है इस्तेमाल !

देश में होने वाले लोकसभा चुनाव 2019 की तारीखों का ऐलान EC ने कर दिया है जिसके बाद से ही आचार सहिंता लागु कर दी गयी है ऐसे में कोई भी राजनेता चाहे किसी भी पार्टी का वरिष्ठ और दिज्जग नेता क्यों न हो वह प्लेन द्वारा चुनाव प्रचार नहीं कर सकता है। लेकिन एक ऐसा शख्स भी को आचार संहिता में भी सरकारी प्लेन का इस्तेमाल कर सकता है।

source

आपको बता दे की आम चुनाव 2019 में चुनाव प्रचार के लिए सिर्फ यही एकमात्र ‘शख्स’ सरकारी प्लेन का इस्तेमाल कर सकता है

source

हिंदुस्तान में होने वाले लोकसभा चुनाव में किसी भी व्यक्ति विशेष को सरकारी प्लेन इस्तेमाल करने की इजाज़त नहीं है लेकिन एक ऐसा शख्स भी है जो प्लेन का इस्तेमाल कर सकता है और यह एकमात्र शख्स कोई ओर नहीं बल्कि देश का प्रधानमन्त्री होता है यानी इस समय पर मौजूदा पीएम नरेन्द्र मोदी ही सरकारी प्लेन से चुनाव प्रचार प्रसार करते दिखेंगे।

source

आपको बता दे की हालही में अचार सहिंता लागू होते ही देश की रक्षा मंत्री ने साड़ी सरकारी वाहनों को छोड़कर आम फ्लाइट से सफर कर दिल्ली आयी थी जिसके बाद पुरे हिन्दुस्तान ने उनकी प्रशंषा भी की थी.

पंडित नेहरू ने की थी शुरुआत
सन 1952 में पहली बार तत्कालीन प्रधानमंत्री नेहरू ने सबसे पहले सरकारी प्लेन का इस्तेमाल किया था बताया जाता है कि तब कांग्रेस पार्टी के पास इतना पैसा नहीं था की वो इतने दिनों तक चलने वाले चुनाव में पंडित नेहरू के लिए प्लेन उपलब्ध करवा सके जिस कारण प्रधानमंत्री नेहरू ने उस समय में इसकी शुरुआत की.

प्रधानमंत्री की सुरक्षा राष्ट्रीय दायित्व है
देश के पीएम को बचाना राष्ट्रीय दायित्व है जिसके तहत उन्हें इस सुविधा का अवसर इसलिए मिलता है क्युकी चुनाव प्रचार के दौरान रेल या अन्य साधनों से यात्रा करने से हवाई सफर ज्यादा सुरक्षित है.

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment